Gulzar Shayari, Gulzar, Gulzar Quotes, Zindagi Gulzar Hai, Gulzar Poetry, Gulzar poems, Gulzar Ki Shayari, Gulzar Shayari In Hindi, Gulzar Shayari On Love, Gulzar Shayari On Life, Gulzar Shayari On Dosti, Gulzar Shayari On Sad, Gulzar Shayari On Romantic, Gulzar Shayari Two Line, Gulzar Shayari Zindagi, Gulzar Shayari Motivational

Gulzar Shayari

Spread the love

Gulzar Shayari 

 

 

 

मिलता तो बहुत कुछ है इस ज़िन्दगी में,
​बस हम गिनती उसी की करते है जो हासिल ना हो सका।

Milta Tho Bohat Kuch Hai Zindagi Me
Bas Hum Jinti Usi Ki Krte Hai Jo Hasil Na Ho Sake

 

 

Gulzar Shayari Zindagi

 

 

उसने कागज की कई कश्तिया पानी उतारी और, 
ये कह के बहा दी कि समन्दर में मिलेंगे।

Usne Kagaj Ki Kai Kastiya Pani Utari Or

Ye Kah Ke Baha Di Ki Samandar Me Milenge

 

 

 

ये कैसा रिश्ता हुआ इश्क में वफ़ा का भला,
तमाम उम्र में दो चार छ: गिले भी नहीं।

Ye Paisa Rista Hua Isqk Me Wafa Ka

 Bhala Tamam Umar Me Do Char Gile Bhi Nhi

 

 

Gulzar Shayari Two Line

 

 

 

मैं हर रात सारी ख्वाहिशों को खुद से पहले सुला देता,
हूँ मगर रोज़ सुबह ये मुझसे पहले जाग जाती है

Me Har Raat Sari Khaish Ko Khud Se Phile Sula Deta Hu

 Magar Roj Subah Ye Mujse Phale Jag Jati Hai

 

 

 

 

आप के बाद हर घड़ी हम ने,
आप के साथ ही गुज़ारी है।

Aap Ke Baad Har Ghadi Hum Ne
Aap Ke Saat Hi Gujari Hai

 

 

 

 

मैं चुप कराता हूं हर शब उमड़ती बारिश को,
मगर ये रोज़ गई बात छेड़ देती है।

Me Chup Karta Hu Har Shab Umardti Barish

Ko Magar Ye Roj Gai Baat Ched Deti Hai

 

 

Gulzar Shayari On Romantic

 

 

 

मैंने दबी आवाज़ में पूछा? मुहब्बत करने लगी हो?
नज़रें झुका कर वो बोली! बहुत

Maine Dabi Aawaj Me Pucha ? Muhbhat Karne Lagi Ho ?

Najre Zhuka Kar Wo Boli ! Bahut

 

 

 

 

बीच आसमाँ में था बात करते- करते ही,
चांद इस तरह बुझा जैसे फूंक से दिया,
देखो तुम इतनी लम्बी सांस मत लिया करो।

Bich Aasma Me Tha Baat Krte-Krtr Hi,
Chand Is Tarah Buja Jaise Fuk Se Diya,
Dekho Tum Etni Lambi Saas Mat Liya Karo

 

Gulzar Quotes

 

 

मैंने मौत को देखा तो नहीं,
पर शायद वो बहुत खूबसूरत होगी।
कमबख्त जो भी उससे मिलता हैं,
जीना ही छोड़ देता हैं।।

Maine Mhut Ko Dekha Tho Nhi,
Par Shayad Wo Bahut Khubsurat Hongi
Kambkhat Jo Bhi Use Milta Hai,
Jina Hi Chod Deta Hai ll

 

 

Gulzar Shayari On Sad

 

 

जब मिला शिकवा अपनों से तो ख़ामोशी ही भलीं,
अब हर बात पर जंग हो यह जरुरी तो नहीं!

Jab Mila Shikwa Aapno Se Tho Khamoshi Hi Bhali
Ab Har Baat Par Ganj Ho Yah Jaruri Tho Nhi

 

 

 

 

फितरत तो कुछ यु है इंसान की..
बारिश ख़तम हो जाये तो छतरी बोज लगने लगाती है..!

Fitrat Tho Kuch U Hai Insan Ki….
Barish Khatam Ho Haye Thp Chatari Boj Lagne Lagti Hai

 

 

 

 

कहू क्या वो बड़ी मासूमियत से पूछ बैठे है,
क्या सचमुच दिल के मारों को बड़ी तकलीफ़ होती है।

Kahu Kya Wo Badi Masumiyat Se Puch Baite Hai,
Kya Sachmuch Dil Ke Maro Ko Badi Taflik Hoti Hai

 

 

 

 

ग़म मौत का नहीं है,
ग़म ये के आखिरी वक़्त भी,
तू मेरे घर नहीं है।

Gum Mhot Ka Nhi Hai,
Gum Ye Ke Aakhri Wakht Bhi,
Tu Mere Ghar Nhi Hai

 

 

 

 

घर में अपनों से उतना ही रूठो,
कि आपकी बात और दूसरों की इज्जत,
दोनों बरक़रार रह सके।

Ghar Me Aapno Se Utna Hi Rutho
Ki Aapki Baat Or Dusro Ki Ijat
Dono Barakraar rah sake

 

 

 

 

लकीरें हैं तो रहने दो, 
किसी ने रूठ कर गुस्से में शायद खींच दी थी, 
उन्ही को अब बनाओ पाला, और आओ कबड्डी खेलते हैं।।

Lakir Hai Tho Rahane Do
Kisi Ne Ruth Kar Gusse Se Shayad Khich Di Thi
Uni Ko Ab Banao Pala, Or Aao Kabadi Khelte Hai

 

 

Gulzar Shayari On Dosti

 

 

दोस्ती में दर्द मिले तो क्या हुआ..
दर्द मै ही असली दोस्ती की पहचान होती है..!

Dosti Me Dard Mile Thp Kya Hua
Dard Me Hi Asli Dosti Ki Pahachan Hoti hai

 

 

 

 

तेरे जाने से तो कुछ बदला नहीं,
रात भी आयी और चाँद भी था, मगर नींद नहीं।

Tere Jane Se Tho Kuch Badla Nhi,
Raat Bhi Aayi Or Chand Bhi Tha, Magar Nind Nhi l

 

Zindagi Gulzar Hai

 

 

सुना हैं काफी पढ़ लिख गए हो तुम,
कभी वो भी पढ़ो जो हम कह नहीं पाते हैं।

Suna Hai Kafi Pad Likh Gaye Ho Tum,
Kabhi Wo Bho Pado Jo Hum Kah Nhi Pate Hai

 

 

 

 

गुलाम थे तो
हम सब हिंदुस्तानी थे
आज़ादी ने हमें
हिन्दू मुसलमान बना दिया

Gulam The Tho
Hum Sab Hindustani
Aazadi Ne Hame
Hindu Musalman Bana Diya

 

 

 

 

कभी तो चौक के देखे कोई हमारी तरफ़,
किसी की आँखों में हमको भी को इंतजार दिखे।

Kabhi Thp Chauk Ke Deke Hamari Taraf,
Kisi Ki Aakho Me Humko Bhi Ko Intajaar Dikhe

 

 

Gulzar Shayari On Life

 

 

 

छोटा सा साया था, 
आँखों में आया था 
हमने दो बूंदों से मन भर लिया 

Chhota sa saaya tha, 
Aankhon mein aaya tha 
Hamane do boondon se mann bhar liya

 

 

 

 

 

दर्द हल्का है साँस भारी है,
जिए जाने की रस्म जारी है।

Dard Halka Hai Saas Bhari Hai,
Jine Jane Ki Rasm Jari Hai ll

 

 

Gulzar

 

 

हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में,
रुक कर अपना ही इंतिज़ार किया।

Ham Ne Aksar Tumari Raho Me,
Rukh Kar Apna Ji Intjar Kiya ll

 

 

 

 

एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है,
मैं ने हर करवट सोने की कोशिश की।

Ek Ho Khawab Ne Saari Raat Jagaya Hai,
Maine Har Karwat Sone Ki Koshish Ki ll

 

 

Gulzar Shayari On Love

 

 

 

गए थे सोचकर की बात
बचपन की होगी
मगर दोस्त मुझे अपनी
तरक्की सुनाने लगे

Gaye The Sochkar Ki Baat
Bachpan Ki Hongi
Magar Dost Muje Aapni
Karaki Sunane Lage ll

 

 

 

 

मैं हर रात सारी ख्वाहिशों को खुद से पहले सुला देता हूँ,
हैरत यह है की हर सुबह यह मुझसे पहले जाग जाती है!

Mai Har Raat Sari Khaish so Ko Khud Se Phale Sula Deta Hu,
Hairat Yah Hai Ki Har Subhah Yah Mujse Phale Jag Jati Hai

 

 

Gulzar Poetry

 

 

ठुकरा दो अगर, दे कोई ज़िलात से समंदर..
अगर इज़त से जो मिल जाये तो कटरा भी बहुत है..!

Thukra Do Agar, De Koi Jilat Se Samandar,,,
Agar Ijat Se Jo Mil Jaye Thp Katra Bhi Bahut Hai

 

 

Gulzar Shayari In Hindi

 

 

सुनो! जब कभी देख लुं तुमको।
तो मुझे महसूस होता है कि.
दुनिया खूबसूरत है।

Suno ! Jab Kabhi Dekh Lu TumKo l
Tho Muje Mahasus Hota Hai Ki,
Duniya Khubsurat Hai l

 

 

 

 

 

कौन कहता हैं कि हम झूठ नहीं बोलते,
एक बार खैरियत तो पूछ के देखियें।

Kon Kahata Hai Ki Hum Zute Nhi Bolte
Ek Baar Khairkar Tho Puch Ke Dekhiye

 

 

Gulzar Ki Shayari

 

 

पलक से पानी गिरा है, तो उसको गिरने दो,
कोई पुरानी तमन्ना, पिंघल रही होगी।

Palak Se Pani Gira Hai, Tho Usko Girne Do,
Koi Purani Tamanna, Pinghal Rahi Hongy

 

 

 

 

हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उनको,
क्या हुआ आज ये किस बात पे रोना आया?

Hum Tho Samje The Ki Hum Bhul Gaye Hai Unko,
Kya Hua Aaj Ye Kiss Baat Pe Rona Aaya?

 

 

Gulzar Poems

 

 

टूट जाना चाहता हूँ, बिखर जाना चाहता हूँ, 
में फिर से निखर जाना चाहता हूँ।
मानता हूँ मुश्किल हैं,
लेकिन में गुलज़ार होना चाहता हूँ।

Tut Jana Chahata Hu, Bikhar Jana Chahata hu,
Me Fir Se Nikhar Jana Chahat Hu,
Manta Hu Mushkil Hai,
Lekin Me Guljar Hona Chahta Hu

 

 

 

 

 

अगर कोई ज़ोर देकर पूछेगा
हमारी मोहब्बत की कहानी,
तो हम भी धीरे से कहेंगे
मुलाक़ात को तरस गए…!!

Agar Koi Jor Dekar Puchenga
Hamari Mohabbat Ki Kahani
Tho Hum Bhi Dhire Se Kahenge
Mulakat Ko Tasar Gaye….!!

 

 

 

 

One thought on “Gulzar Shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *